रविवार, 20 जून 2021

Katha-Varta : कथावार्ता के बारे में

कथावार्ता’ भारतवादी विचारधारा से ओतप्रोतशिक्षासाहित्य और संस्कृति को समर्पित ब्लॉगयू ट्यूब चैनल और एक सांस्कृतिक आंदोलन है। कथावार्ता पर हम आपके लिए इन्हीं विषयों से संबन्धित सामग्री प्रस्तुत करते हैं।

        कथावार्ता संस्कृत का संज्ञा शब्द है। यह स्त्रीलिंग के रूप में व्यवहृत होता है। इसका अर्थ है- 

        १. समसामयिक विषय पर होने वाली चर्चा अथवा बातचीत

        २. अनेक प्रकार की चर्चा

                ३.  पौराणिक अथवा धार्मिक कथाओं की चर्चा आदि।

        ‘कथावार्ता’ इसी अर्थ को किंचित व्यापक आयाम में लेकर चलने का संकल्प है। हमने कथावार्ता में उक्त के अतिरिक्त साहित्यिकसांस्कृतिक और राजनीतिक तथा सामाजिक विषयों को भी ध्यान में रखकर लिखे गए साहित्य को यहाँ रखा है और भविष्य में भी रखने का निश्चय किया है। कथावार्ता में ‘चर्चा’ एक व्यापक अर्थ धारण करने वाला शब्द हैजिसका आशय है-  

         १.   वार्तालापबातचीतविचार-विमर्शपरिचर्चा

         २.   बहसवाद-विवाद 

         ३.   बयानज़िक्र

४.   किंवदंतीबहुत से लोगों में फैली हुई बात।

कथावार्ता में आये कथा (Katha) का आशय है-

१.   कहानी ; बीते हुए जीवन की घटनाओं का क्रमवर्णनकिस्सा 

२.   वह जो कही जाएजैसेधर्मविषयक आख्यानकिसी घटना की चर्चा

३.   हालखबर।

        कथावार्ता अपने ब्लॉग और यू ट्यूब चैनल पर कहानी और उसकी विविध विधाओं को केंद्र में रखकर प्रस्तुतियाँ करती है। कथावार्ता के विविध पक्ष हैं। इसे अर्थ सहित इस तरह रखा जा सकता है-

       कथाकार-

         कथा लिखने वालाकहानीकारउपन्यासकारकथावाचक।

        कथानक अथवा कथावस्तु

         छोटी कथाकहानी या उपन्यास की आधारकथाकथावस्तुप्लॉट

        कथामुख

१.   कथा की भूमिका

२.    पत्रकारिता के क्षेत्र में पहले के सभी आमुखों के बदले दिया गया एक नया आमुख।

        कथावाचक

१.   कथा कहने या सुनाने वालाकथा उद्घोषक

२.   पूजा आदि में कथा सुनाने वाला।

३.   कहानी पढ़कर सुनाने वाला

        कथाशिल्प

        कथा लिखने का कलात्मक पक्षउपन्यासकार या कथाकार के लिखने की शैली।

        वार्ताकार

१.   बातचीतवृत्तांत या हालचाल सुनाने वाला व्यक्ति

२.    खबर सुनाने वाला

३.   ज्ञानवर्धक बात या कथा सुनाने वाला व्यक्ति।

        अङ्ग्रेज़ी में KathaVarta का अनुवाद ‘Narrative Dialogue’ भी किया गया है। कथा और वार्ता दोनों ही कहानी/बात कहने के लिए प्रयुक्त होते हैं। इस तरह कथावार्ता में ‘कहन’ एक विशेष पक्ष है। वार्ता को Discussion, Discourse, Talk के साथ संबन्धित कर देखा जाता है।

हम कथावार्ता में नए लेखकों को प्रोत्साहित करते हैं और उन्हें आमंत्रित करते हैं कि वह लिखेंपढ़ें और हमसे जुड़कर इस आंदोलन को आगे बढ़ाएँ। आप अपनी रचनाएँ हमें royramakantrk@gmail.com पर भेजें या इनबॉक्स करें-  डॉ रमाकान्त राय  के डीएम में। 


कथावार्ता की विशेष उपस्थिति है-  

ट्विटर-  कथावार्ता 

यू ट्यूब-  कथावार्ता 

फेसबुक पेज-  कथावार्ता


- डॉ रमाकान्त राय

राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय,

इटावा, उत्तर प्रदेश

royramakantrk@gmail.com

9838952426

1 टिप्पणी:

Dr Amit Kumar ने कहा…

samyak parichay hai kathavarta ka.

सद्य: आलोकित!

Kathavarta : प्रभाती : रघुवीर सहाय की कविता

आया प्रभात चंदा जग से कर चुका बात गिन गिन जिनको थी कटी किसी की दीर्घ रात अनगिन किरणों की भीड़ भाड़ से भूल गये पथ ‚ और खो गये वे ...

आपने जब देखा, तब की संख्या.