मंगलवार, 23 फ़रवरी 2010

फ़ैज़ अहमद फैज़ की एक नज़्म....

आज फैज़ की एक नज़्म आपके लिए लेकर आया हूँ।
फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ उन गिने चुने शायरों में हैं जिन्होंने अपनी शायरी में शोषितों और दलितों कि आवाज़ पुरजोर तरीके से उठाई है। जनरल अयूब खान की तानाशाही के खिलाफ आवाज़ बुलंद करती ये नज़्म.....


हम देखेंगे
लाजिम है की हम भी देखेंगे.
वो दिन के जिसका वादा है
जो लौह-ए-अजल में लिख्खा है
जब जुल्म-ओ-सितम के कोहें-ए-गरां
रुई की तरह उड़ जाएंगे
हम महकूमों के पांव तले
जब धरती धड़-धड़ धड़केगी
और अहल-ए-हिकम के सर ऊपर जब बिजली कड़कड़ कड़केगी
जब अर्ज-ए-खुदा के काबे सेसब बुत उठवाये जाएंगे
हम अहल-ए-सफा, मरदूद-ए-हरममसनद पे बिठाये जाएँगे
सब ताज उछाले जाएँगे सब तख्त गिराए जाएँगे
बस नाम रहेगा अल्लाह का
जो गायब भी है हाज़िर भी
जो मंजर भी है नाज़िर भी
उठ्ठेगा अनल-हक का नाराजो मैं भी हूँ और तुम भी हो
और राज करेगी ख़ल्क-ए-ख़ुदाजो मैं भी हूँ और तुम भी हो.
हम देखेंगे
लाजिम है की हम भी देखेंगे.
हम देखेंगे
लाजिम है की हम भी देखेंगे.

कोक स्टूडियो की यह शानदार प्रस्तुति देखिए।
https://youtu.be/unOqa2tnzSM

सद्य: आलोकित!

रसप्रिया: फणीश्वरनाथ रेणु की कहानी

धूल में पड़े क़ीमती पत्थर को देखकर जौहरी की आँखों में एक नई झलक झिलमिला गई-अपरूप-रूप! चरवाहा मोहना छौंड़ा को देखते ही पंचकौड़ी मिरदंगिया क...