गुरुवार, 29 फ़रवरी 2024

आमिष : मानस शब्द संस्कृति


आमिष : मानस शब्द संस्कृति

गीध अधम खग आमिष भोगी।
गति दीन्ही जो जाचत जोगी।।

गीधराज जटायु अधम पक्षी था। मांसाहारी था। जिनका आहार प्रत्यक्ष जीव हैं, वह #आमिष भोगी कहे जाते हैं। आमिष का अर्थ है मांस। सीता की रक्षा के निमित्त प्राण दांव पर लगाकर उन्होंने मुक्ति पाई। अधम होते हुए भी एक पुण्य कार्य करते ही उनकी गति ऐसी हुई जिसकी कामना योगी गण करते रहते हैं।

गीध अधम खग आमिष भोगी।


ध्यान देने की बात है कि श्रीराम जटायु से मिल चुके थे। "गीधराज से भेंट भई, बहु बिधि प्रीति बढ़ाई!" श्रीराम सबके आराध्य हैं। सबके मित्र हैं। खग, मृग, चर, अचर सबके।

#मानस_शब्द #संस्कृति


बुधवार, 28 फ़रवरी 2024

पूर्णकाम : मानस शब्द संस्कृति

 

पूर्णकाम: मानस शब्द संस्कृति 

पूरनकाम राम सुख रासी।
मनुज चरित कर अज अबिनासी।।

जो सब कुछ पा चुके हैं, जिनकी समस्त कामनाएं पूर्ण हो गई हैं, वे श्रीराम सुख की राशि हैं। यह दुर्लभ स्थिति है।

नागार्जुन की बहुत प्रसिद्ध कविता है, उन्हें प्रणाम। इस कविता में उन्होंने लिखा -
"जो नहीं हो सके #पूर्णकाम
उन्हें प्रणाम।"

यह कविता सामान्य जन का अभिवादन करती है इसलिए प्रगतिवादी मानी जाती है। आधुनिक युग ने यह बोध दिया है कि पूर्णकाम होना मनुष्य की असफलता नहीं है। उसकी नियति है और यह स्वीकार कर लेने के बाद कोई हीन भावना नहीं रहती।
तुलसीदास जी श्रीराम को सदैव पूर्णकाम, सुख सागर, भक्त वत्सल, प्रणतपाल आदि कहते रहते हैं। यह ईश्वर की विशेषता है। श्रीराम जो अजन्मा और अविनाशी हैं, वह मनुष्य का अवतार लेकर लीला कर रहे हैं, #मर्यादा की स्थापना कर रहे हैं।

#मानस_शब्द #संस्कृति


मंगलवार, 27 फ़रवरी 2024

श्रीफल : मानस शब्द संस्कृति

श्रीफल : मानस शब्द संस्कृति

 

श्रीफल कनक कदलि हरषाहीं।

श्रीराम सीता वियोग में पेड़ों को हरा भरा देखकर दुखी हैं। इस क्रम में उनकी दृष्टि बिल्व फल पर पड़ती है। तुलसीदास ने इसे #श्रीफल कहा है। इस वृक्ष की तीन पत्तियां त्रिदेव की प्रतिनिधि हैं। पत्ते शिवजी को प्रिय हैं। पवित्र वृक्ष है।
मैंने महाराष्ट्र में नारियल को श्रीफल कहते सुना है। लेकिन मुझे सदैव से यह असंगत लगता है।

#मानस_शब्द #संस्कृति

रविवार, 25 फ़रवरी 2024

ऐतरेय ब्राह्मण, तृतीय अध्याय से दो श्लोक

°

कलिः शयानो भवति संजिहानस्तु द्वापरः ।

उत्तिष्ठस्त्रेता भवति कृतं संपद्यते चरंश्चरैवेति ॥ 


[शयन की अवस्था कलियुग के समान है, जगकर सचेत होना द्वापर के समान है, उठ खड़ा होना त्रेता सदृश है और उद्यम में संलग्न एवं चलनशील होना कृतयुग/सत्ययुग के समान है । अतः तुम चलते ही रहो!] 

उज्जैन 


°

आस्ते भग आसीनस्योर्ध्वस्तिष्ठति तिष्ठतः ।

शेते निपद्यमानस्य चराति चरतो भगश्चरैवेति ॥ 


[जो मनुष्य बैठा रहता है उसका सौभाग्य भी रुका रहता है। जो उठ खड़ा होता है उसका सौभाग्य भी उसी प्रकार उठता है। जो शयनरत रहता है उसका सौभाग्य भी सो जाता है। और जो विचरण करता है उसका सौभाग्य भी चलने लगता है। अतः तुम चलते ही रहो!] 


_______________________

ऐतरेय ब्राह्मण, तृतीय अध्याय


•••

शनिवार, 24 फ़रवरी 2024

Chintha Chettu : The Tamarind tree

Chintha Chettu is Tamarind tree in Telugu. Chintha is Tamarind and Chettu is tree.

तानसेन की समाधि पर उत्कीर्ण लेख


now read the lesson. 



Chintha Chettu


Chintha Chettu is a tamarind tree.

This famous tamarind tree is in Gwalior.

It grows over Tansen’s tomb.

Tansen was a great singer.

People in Gwalior say:

"Eat the leaves of this tamarind tree

And you’ll also sing like Tansen!"

शुक्रवार, 23 फ़रवरी 2024

म्लेच्छ : मानस शब्द संस्कृति

 

म्लेच्छ : मानस शब्द संस्कृति

गीधराज सुनि आरत बानी।
रघुकुल तिलक नारि पहिचानी।।
अधम निसाचर लीन्हें जाई।
जिमि मलेछ बस कपिला गाई।।

यह ध्यातव्य है कि तुलसीदास ने रावण द्वारा सीताहरण प्रसंग में पहली बार #म्लेच्छ शब्द का प्रयोग किया है। सूरदास के गुरु बल्लभाचार्य ने भी मलेच्छाक्रांतदेशेषु कहा है। यह विदेशी आक्रमणकारियों के लिए पर्याय था।
रावण का उल्लेख होते ही तुलसीदास जैसे क्रोध में भर जाते हैं। चोर, भड़ियाई, अधम, निशाचर, #म्लेच्छ आदि संज्ञाओं और उपमाओं से उसे बताना चाहते हैं। सीता को रावण ऐसे ले जा रहा था जैसे कपिला गाय म्लेच्छों के हाथ लग गई हों। तुलसीदास देश में गौहत्या, स्त्रियों के बलात हरण से सुपरिचित हैं।

#मानस_शब्द #संस्कृति

गुरुवार, 22 फ़रवरी 2024

लक्ष्मण रेखा: मानस शब्द संस्कृति

लक्ष्मण रेखा : मानस शब्द संस्कृति 


बचन जब सीता बोला।

हरि प्रेरित लछमन मन डोला।।

बन दिसि देव सौंपि सब काहू।

चले जहां रावन ससि राहू।।

स्वर्णमृग के आर्तस्वर को सुनकर सीता जी ने लक्ष्मण को मर्म वचन कहे। लक्ष्मण सीता को "वन और दिशाओं को सौंपकर" श्रीराम की सुधि लेने गए।
यहां लोक में #लक्ष्मणरेखा की चर्चा मिलती है। वह रेखा जिसे लक्ष्मण खींच गए थे और कहा था कि इसे पार नहीं करना है। जिसे रावण पार नहीं कर सकता था।#श्रीरामचरितमानस में यह युक्ति अथवा पद नहीं है।

#मानस_शब्द #संस्कृति

सद्य: आलोकित!

आमिष : मानस शब्द संस्कृति

आमिष : मानस शब्द संस्कृति गीध अधम खग आमिष भोगी। गति दीन्ही जो जाचत जोगी।। गीधराज जटायु अधम पक्षी था। मांसाहारी था। जिनका आहार प्रत्यक्ष जीव...

आपने जब देखा, तब की संख्या.