मंगलवार, 29 सितंबर 2020

काशीनाथ सिंह की कहानी ‘सुख’




काशीनाथ सिंह (जन्म 01 जनवरी, 1937) साठोत्तरी कहानी के प्रमुख लेखक, जाने माने उपन्यासकार, संस्मरण लेखक हैं। उनके उपन्यास रेहन पर रग्घू’ (2011) पर उन्हें प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरस्कार मिल चुका है। अपना मोर्चा’, ‘महुआ चरित’, ‘उपसंहारऔर काशी का अस्सीउनकी चर्चित औपन्यासिक कृतियाँ हैं। याद हो के न याद होऔर घर का जोगी जोगड़ाशीर्षक से उनके संस्मरण बहुत सराहे गए हैं। उनकी एक ख्याति नामवर सिंह के अनुज के रूप में भी है।




काशीनाथ सिंह की कहानी सुखन समझे जाने की पीड़ा को बहुत कलात्मक तरीके से प्रस्तुत करती है। तार बाबू के पद से हालिया अवकाशप्राप्त भोला बाबू को एक शाम प्राकृतिक सुषमा का दर्शन होता है और वह सबको इस अपरूप सौन्दर्य से परिचित करा देना चाहते हैं। हर संवाद में वह अस्त होते हुए सूर्य की सुन्दरता का साक्षात कराने के लिए अवसर खोजते हैं। निराश होते हैं और झल्लाते हैं। न समझा पाने की पीड़ा उनको अकेला कर जाती है। बहुत अकेला।

 

          कथा-वार्ता के लिए इस कहानी का वाचन किया है- डॉ रमाकान्त राय ने। वीडियो का सम्पादन और संयोजन भी डॉ राय का है।

 

          देखने / सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें।

 काशीनाथ सिंह की कहानी ‘सुख’


कोई टिप्पणी नहीं:

सद्य: आलोकित!

सबको साधने में बिखर गया मिर्जापुर का सीजन -2

क्या सबको साधने में मिर्जापुर-2 बिखर गया है ?  नवरात्रि में मिर्जापुर-2 के अमेज़न प्राइम पर जारी होने का दबाव इस वेबसीरीज़ पर रहा है ?  नवरा...