Saturday, May 1, 2010

नीलमशंकर और उनकी कहानी का नया संग्रह, "सरकती रेत".....


हमारे शहर कि नयी कहानीकार नीलम शंकर की कहानियों का नया संग्रह 'सरकती रेत' वाणी प्रकाशन, दिल्ली से छपकर आया है

नीलम जी कि अधिकांश कहानियों का तानाबाना हमारे आसपास के परिवेश से लेकर बुना गया है इन कहानियों में समाज का निम्न और मध्यम तबका प्रमुख रूप से उभरकर सामने आता हैमशहूर स्त्रीवादी लेखिका वर्जिनिया वूल्फ का मानना है कि स्त्री का लेखन स्त्रीवादी ही होगाअपने सर्वोत्तम रूप में वो स्त्री का लेखन होने से बच नहीं सकतानीलम जी कि अधिकांश कहानियों में स्त्रीवादी स्वर मिलेगाहालांकि यह स्वर हमारे दौर की प्रचलित तथाकथित बोल्ड और देहवादी विमर्श से इतर है, उनमें पितृसत्ता से मुक्ति की बेचैनी, आत्मनिर्भर होने की जद्दोजहद, स्वनिर्णय करने की बेकरारी साफ़ झलकती हैउनकी कहानियो में लगभग हर महिला पात्र अपनी अलग पहचान के लिए बेक़रार नज़र आती है अपना रास्ता लो बाबा!, विडम्बना, ठूंठ, अंततोगत्वा, मरदमारन जैसी कहानियों में इसे सहज ही देखा जा सकता है.

उनकी कहानी रामबाई इस दृष्टिकोण से भी उल्लेखनीय है कि नायिका रामबाई सिर्फ अपने सौन्दर्य बोध से परिचित है बल्कि उसे इसकी शक्ति का अहसास भी हैखास बात ये है कि वह अपने सौन्दर्य का बेजा फायदा नहीं उठाती। उनकी ये कहानी नैतिकता और अनैतिकता के द्वंद्व को बखूबी आंकती हैउनकी कहानी में खास बात भी यही है कि उनको मानव मन के द्वंद्व के अंकन की महारत हासिल है

मुझे उनकी कहानी विडम्बना सबसे अच्छी लगी

कुछ बाते खटकने वाली भी हैं लेकिन अब मैं उनको कहूँगा, ऐसा भी तो किया जा सकता है कि उनकी ओर संकेत किये बिना भी टिप्पणी की जा सकती है....


कल यानि ३० अप्रैल को महात्मा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय और प्रगतिशील लेखक संघ कि ओर से पुस्तक चर्चा हुई। इस परिचर्चा में मैंने उपरोक्त बात रखी और मेरे बाद प्रो अनीता गोपेश, कवि बद्रीनारायण, प्रो अली अहमद फातमी तथा श्री दूधनाथ सिंह ने अपना वक्तव्य रखा. मैंने अपनी और भी बातें कीं, जिसे खासा सराहा गया

विश्वविद्यालय के कुलपति विभूतिनारायण राय भी इस अवसर पर बतौर अध्यक्ष विराजमान रहे....